हिस्ट्रीशीटर सेंधमार चढ़ा पुलिस के हत्थे

लाखों की नकदी,एक स्कूटी,एक लैपटॉप, एक हेडफोन और दो डेबिट कार्ड सहित दो को पुलिस ने दो सेंधमारों को दबोचा। पुलिस ने पांच मामले सुलझाने का किया दावा।

भारत पोस्ट, संवाददाता।
नई दिल्ली। दक्षिण-पूर्वी जिले के थाना अमर कॉलोनी पुलिस के एक बड़ी कामयाबी मिली है। अमर कॉलोनी थाने की पुलिस टीम ने मुस्तैदी से एक हिस्ट्रीशीटर सोनू उर्फ़ मुल्ला और उसके सहयोगी प्रदीप चौरसिया को गिरफ्तार किया है। थाना अमर कॉलोनी पुलिस ने पांच दावों की सुलझाने का दावा किया है। दक्षिण पूर्वी जिला पुलिस उपायुक्त ईशा पांडे ने बताया कि बीते 7 अगस्त को थाना अमर कालोनी में संत नगर में एक घर में सेंधमारी के संबंध में एक पीसीआर कॉल प्राप्त हुई। पुलिस टीम मौके पर पहुंची और उनकी मुलाकात शिकायतकर्ता से हुई। शिकायतकर्ता ने बताया कि उसके घर से 5 लाख रुपये, लैपटॉप और हेडफोन चोरी करने की बात कही। तदनुसार, थाना अमर कॉलोनी में मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी गई है।
अपराध की गंभीरता को भांपते हुए एसीपी प्रदीप कुमार की देखरेख और थाना अमर कॉलोनी तेज़ तर्रार एसएचओ प्रदीप रावत के नेतृत्व में एसआई अंकुर कुमार, हेड कांस्टेबल रविंदर गिरी, हेड कांस्टेबल सचिन कुमार, हेड कांस्टेबल गौरव, हेड कांस्टेबल नीरज,कांस्टेबल मनीष और कॉन्स्टेबल राजेश के एक समर्पित टीम का गठन किया गया। दोषियों को पकड़ने के लिए गठित तेज़ तर्रार एसएचओ प्रदीप रावत की टीम ने आस-पास में लगे सभी सीसीटीवी फुटेज का विश्लेषण किया। सीसीटीवी फुटेज की जांच के दौरान टीम ने एक आरोपी की पहचान सोनू उर्फ ​​मुल्ला पुत्र अलाउद्दीन निवासी गढ़ी के रूप में की। पुलिस टीम ने बिना देरी किये उनके आवास पर छापा मारा, लेकिन भनक लगने से वह फरार पाया गया। इलाके को अपराधमुक्त रखने के लिए मशहूर एसएचओ प्रदीप रावत की टीम ने अपने मुखबिरों को इलाके में सक्रिय किए और सोनू उर्फ़ मुल्ला को इस्कॉन मंदिर के पास, गढ़ी, ईस्ट ऑफ कैलाश से गिरफ्तार कर लिया। आरोपी सोनू उर्फ़ मुल्ला ने बताया कि उसके कहने पर उसके एक अन्य सहयोगी प्रदीप चौरसिया ने भी सेंधमारी करने में सहयोग किया था। पुलिस टीम ने कुछ दिन पहले हुई स्नैचिंग की घटना की फुटेज का विश्लेषण किया। उस स्नैचिंग की घटना में प्रदीप चौरसिया भी शामिल था। प्रदीप चौरसिया पुत्र ओम प्रकाश चौरसिया निवासी अमृतपुरी, ईस्ट ऑफ कैलाश, दिल्ली को उनके आवास से गिरफ्तार किया गया था। लगातार पूछताछ करने पर आरोपी सोनू उर्फ ​​मुल्ला ने खुलासा किया कि वह स्मैक की लत है। उसने पास में कई स्नैचिंग की वारदातों को अंजाम दिया था। आरोपी सोनू के खुलासे के अनुसार, चार अन्य स्नैचिंग की घटनाओं को अंजाम दिया है। उन्होंने आगे खुलासा किया कि प्रतिबद्ध होने के बाद चोरी की नकदी उसने प्रदीप चौरसिया के घर में रख दी। आरोपी प्रदीप के कब्जे से पांच लाख रुपये नकद, लैपटॉप, हेडफोन व दो डेबिट कार्ड, स्नैचिंग में इस्तेमाल स्कूटी को बरामद किया।