पुलपहलादपुर वार्ड मे अवैध निर्माण की बाढ

संवाददाता भारत पोस्ट
नई दिल्ली । दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के पुलपहलादपुर क्षेत्र मे एमसीडी के भवन विभाग के अभियाताओ ओर पुलिस प्रशासन की मदद से अवैध निर्माण की बाढ आई हुई है । अग्निशमन विभाग जहा एक ओर अनजान बना हुआ है तो वही बिल्डर ने यहा अपना जाल फैला लिया है । हालांकि निगम ने 105 गज से छोट प्लाट पर भवन के नक्शे की शत हटा दी है लेकिन किसी एक परिवार के लिए भवन के लिए ही यह स्कीम लागू है। अगर 100 गज के प्लॉट पर बिल्डर पांच मंजिला बिल्डिंग खड़ी कर देता है तो यह नियम कानून के मुह पर तमाचा मारने जैसा ही होगा । अनियमित कालोनियो के नियमन कि मुदा ही जहा अभी संशय के बीच है अवैध निर्माण के बढते वाक्य निगम ओर पुलिस प्रशासन की पोल खोलने के लिए काफी है । एकत्रित सूचना के अनुसार पुलपहलादपुर एरिया की विशकमा कालोनी के डी व ई ब्लाक मे धड़ल्ले से अवैध निर्माण जारी है । बताते चले कि नये भवन के लिए वर्षा जल संचयन तकनीक ओर पाकिग बनाने की शत अनिवार्य तैर पर जोड़ी गयी है जहा भवन बहुमंजिला बन रहा हो लेकिन विश्वकर्मा कालोनी मे ऐसी किसी मानक को पुरा करने के लिए कोई पयास नही हो रहे है । दछीणी दिल्ली नगर निगम के भवन विभाग के अभियाताओ की मिलीभगत से जारी अवैध निर्माण पर विशेष रिपोर्ट जल्द ही फिलहाल नवीनतम सूचना है कि इस एरिया मे विलडरो ने अपनी पहुच बना ली है ओर प्लाट के छोटे छोटे टुकड़े पर कई कई मंजिला फ्लैट बनाकर बेचने का कारोबार शुरू किया हुआ है जिसे स्थानीय पुलिस का पूरा संरक्षण प्राप्त है । पुलपहलादपुर वाड मे जरी अवैध निर्माण का एक सच यह भी है कि एरिया जूनियर इंजीनियर ने एक भी ऐसा कोई बोड एरिया मे नही लगवाया है कि अवैध निर्माण की शिकायत कहा की जा सकती है । जब कोई व्यक्ति मकान बनाने लगता है तब जूनियर इंजीनियर की टीम अपना हिस्सा लेने पहुंच जाती है ओर कमोबेश यही हाल पुलिस का है । जिसकी सुस्ती की पुल पहलादपुर वार्ड मे अवैध निर्माण को बाढ ।