ताहिर हुसैन पर 302 का एफआईआर दर्ज

अखिलेश कुमार अखिल नई दिल्ली । राजधानी में नागरिकता कानून के विरोध मे हुई हिंसा मे अब तक 38 लोगो की मौत हो चुकी है। हमारी टीम हिंसाग्रस्त इलाके मे ग्राउंड रिपोर्टिंग की। इस दौरान हम उन लोगो से भी मिले जिन्होने इस दंगे का दंश झेला है। उन लोगो से बात की जिन्होने इन दंगो मे अपनो को खोया है । एक नाम हर जुबान पर था वो नाम था ताहिर हुसैन का नाम। लोगो का कहना था कि ताहिर हुसैन का संबंध आम आदमी पार्टी से है और ताहिर हुसैन के घर मे ही हथियार रखे गए थे और सैकड़ो की संख्या मे दंगाईयो ने भी यहीं शरण ली थी और ताहिर हुसैन के घर से ही लोगो पर पत्थर बरसाए गए । कुछ लोगो के मुताबिक तो इस घर की छत से गोलियां भी चलाई गई । अब आप खुद सोचिए इन दंगो के लिए कितनी तैयारी की गई थी । ऐसा लग रहा है कि ये सब एक साजिश के तहत किया गया था। इतने पत्थर इतने पेट्रोल बम तेजाब गोली बारी और हथियार आखिर ये सब कहां से आए इसलिए हम पूछ रहे है कि क्या ये सब सुनियोजित था इसलिए इन दंगो मे ताहिर हुसैन के रोल की भी जांच होनी चाहिए। दंगो में मारे गए आईबी के कर्मचारी अंकित शर्मा के भाई ने भी बताया कि उनके भाई कि हत्या के पीछे ताहिर हुसैन का हाथ है। अंकित के भाई ने बताया ताहिर हुसैन के घर में ही काफी बड़ी संख्या में हथियार रखे गए थे । सैकड़ो की संख्या में दंगाईयो ने ताहिर हुसैन के मकान में शरण ली थी। यहां से पत्थर बरसाए गए थे। गोलियां चलाई गई थी पेट्रोल बम बरसाए गए थे । हाजी ताहिर हुसैन आम आदमी पार्टी के निगम पार्षद है । ताहिर हुसैन उत्तर पूर्वी दिल्ली लोकसभा क्षेत्र मे आने वाली मुस्तफाबाद विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले वार्ड 59 नेहरू विहार पूर्वी दिल्ली नगर निगम के निगम पार्षद हैं । दिल्ली हिंसा में मारे गए आईबी के कर्मचारी अंकित शर्मा का संस्कार यूपी के मुजफ्फरनगर जिले के बुढाना तहसील मे उनके पैतृक गांव इटावा मे राज्यकीय सम्मान के साथ किया गया । आईबी कांस्टेबल अंकित शर्मा अपने पिता रविन्द्र शर्मा के साथ दिल्ली में आईबी में तैनात है मंगलवार की शाम डॄयूटी से घर लौट रहे मुजफ्फरनगर के लाल अंकित शर्मा को विरोध के दौरान अज्ञात लोगों ने मार कर चांद बाग इलाके के नाले मेंं शव को फेंक दिया था। इस बीच डॉक्टर के पोस्टमार्टम रिपोर्ट मे चुकाने वाला खुलासे हुए है अंकित शर्मा को चाकू एव धारदार हथियार से हमला किया गया था ।