कोरोना लॉकडाउन: बाहर फंसे लोगों को सहायता राशि देने में बिहार अव्वल, जानिये दिल्ली, यूपी, गुजरात का क्‍या है हाल…

पटना । लॉकडाउन के कारण दूसरे राज्यों में फंसे अपने राज्य के लोगों को सहायता राशि देने में बिहार पहला राज्य बन गया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाहर फंसे बिहार के लोगों को एक-एक हजार सीधे उनके बैंक खाते में डीबीटी के माध्यम से भुगतान की योजना का शुभारंभ किया। पहले दिन ही एक लाख तीन हजार 579  लोगों के खाते में एक-एक हजार भेजा गया, जो कुल राशि दस करोड़ 35 लाख 79 हजार हुई। 
मुख्यमंत्री ने पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि जांच कर अन्य सभी लाभुकों के खाते भी में यह राशि जल्द भेजी जाए। दूसरे राज्यों में फंसे बिहार के लोगों के अब तक दो लाख 84 हजार 674 आवेदन प्राप्त हुए हैं। आवेदनों के प्राप्त होने का क्रम जारी है। मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन के कारण बिहार के जो लोग अन्य राज्यों में फंसे हुए हैं, उन्हें प्रति व्यक्ति एक हजार विशेष सहायता के रूप में मुख्यमंत्री राहत कोष से देने का निर्देश दिया था। मुख्यमंत्री सचिवालय एवं बिहार भवन के हेल्पलाइन नंबर पर तथा आपदा प्रबंधन विभाग, बिहार के नियंत्रण कक्ष के दूरभाष पर बाहर फंसे लोगों द्वारा सूचना दी गई थी। मुख्यमंत्री के निर्देश पर उन सभी लोगों से मुख्यमंत्री सचिवालय द्वारा दूरभाष के माध्यम से फीडबैक लिया गया। पता चला कि लॉकडाउन में फंसे लोग संकट से गुजर रहे हैं। इसे देखते हुए मुख्यमंत्री ने प्रति व्यक्ति एक हजार देने का निर्णय लिया था। बाहर फंसे जिनलोगों ने सूचनाएं दी थीं, उनके मोबाइल पर एसएमएस से आपदाडॉटबीआई एचडॉटएन आईसीडॉटइर्न ंलक भेजा गया था। उसके आलोक में बाहर फंसे  लोगों की विवरणी प्राप्त हुई। बेवसाइट से भी एप डाउनलोड कर भी काफी लोगों ने अपना रजिस्ट्रेशन  कराया।