ये तय हुई गाइड लाइन

पाली जिला कलक्टर दिनेशचंद जैन ने शनिवार को आवश्यक सेवाओं से जुडे विभिन्न विभागों के जिला अधिकारियों की बैठक लेकर 21 अप्रेल से लागू किए जा रहे माॅडिफाइड लाॅकडाउन को लेकर अपनी-अपनी कार्ययोजना पेश करने के निर्देश दिए। जिला कलक्टर ने कहा कि माॅडिफाइड लाॅकडाउन को लेकर जिन श्रेणियों को शुरू करने की अनुमति दी जा रही है, उन्हें किसी भी सूरत में लाॅकडाउन के नियम-कायदों के उल्लंघन की इजाजत नहीं दी जा सकती। ऐसे में आवश्यक सेवाओं से जुडे विभाग उन्हीं इकाइयों को शुरू करने की कार्ययोजना बनाएं, जो सबसे ज्यादा जरूरी हो। जो भी कार्य प्राथमिकता से किए जाने हैं, उनकी सुविधा ही प्रदान की जाएं। उन्होंने जिलाधिकारियों को इस संबंध में गृह विभाग की ओर से जारी एडवायजरी का अनिवार्य रूप से अवलोकन करने के निर्देश दिए।
जिला कलक्टर ने कहा कि माॅडिफाइड लाॅकडाउन के तहत जो भी कार्य शुरू किए जाएंगे, उनमें सामाजिक दूरी व फेस मास्क तथा अन्य नियमों की पालना आवश्यक रूप से करवाई जाएगी। साथ ही, जिन इकाइयों को अनुमत किया जाएगा वे श्रमिकों को इन नियमों की पालना करवाने के लिए आवश्यक तौर पर बाध्य करेंगे। ऐसी इकाइयों को श्रमिकों के भोजन-पानी तथा रहने, लाने-ले जाने की व्यवस्था अपने स्तर पर करनी होगी। उन्होने सभी जिलाधिकारियों से अनुमत की गई इकाईयों की माॅनिटरिंग करने के निर्देश देते हुए कहा कि माॅडिफाइड लाॅकडाउन में खनन, औद्योगिक इकाईयों, फल, सब्जी, दूध, किराणा, कृषि यंत्र, फटिलाईजर, माल वाहक वाहन, गुड्स केरियर, धोबी, पेट्रोल पम्प, कोल्ड स्ट्रोरेज, डेयरी, कृषि, पशु पालन की सभी गतिविधियां चालू रहेगी। इसके तहत सभी ई-मित्र खुले रहेगें। जिला कलेक्टर ने कहा कि जो सामान्य कार्य हैं वे लाॅक डाउन खुलने के बाद शुरू हो सकते हैं। आवश्यक प्रवृत्ति के कामों को ही माॅडिफाइड लाॅकडाउन में अनुमत किया जायेगा। उन्होंने सभी जिलाधिकारियों से अपने-अपने विभागों से अनुमत किए जाने वाले कार्यो की सूची प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। साथ ही माॅडिफाइड लाॅकडाउन लागू करने के लिए जरूरी सुझाव प्रस्तुत करने को कहा।
जिला कलेक्टर ने जिला परिवहन अधिकारी को माॅडिफाइड लाॅकडाउन में चिकित्सा संस्थानों के बाहर प्र्याप्त संख्या में ओटो उपलब्ध करवाने को कहा। साथ ही सभी उपखण्ड अधिकारियों को आवश्यक सामग्री की होम डिलेवरी के काम में तेजी लाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कुछ विभाग सोमवार से शुरू होगें। आवश्यक सेवाओं से जुड़े विभाग एक तिहाही कर्मचारियों को बुलाकर काम करवाया जायेगा। उन्होंने रीको व उधोग विभाग के अधिकारियों को अनुमत की गई इकाईयों में काम करने वाले श्रमिकों के पास जारी करेगे। सरकारी व अन्य निर्माण कार्यों शुरू करने के निर्देश देते हुए कहा कि ऐसी इकाईयों में बाहर से श्रमिक बुलाने पर पाबन्दी रहेगी। जिला कलेक्टर ने कहा कि एमजी नरेगा के शुरू किए जाने वाले कामों पर भी साबुन, हैण्ड सेनेटाईजर, मास्क, पीने का पानी, छाया की व्यवस्था के साथ सामाजिक दूरी की पालना अनिवार्य रूप से की जायेगी। इस दौरान समर्थन मूल्य पर मण्डियों में की जाने वाली खरीद के दौरान भी सामाजिक दूरी की पालना भी की जायेगी। जो भी किसान अपनी जिन्स बेचने आयेगें उन्हें फेस मास्क लगाना होगा।
अतिरिक्त जिला कलेक्टर वीरेन्द्र सिंह चैधरी ने कहा कि मंडी यार्ड में 30-30 फीट की दूरी पर सामग्री विक्रय की व्यवस्था अनिवार्य रूप से की जायेगी। राजस्व संग्रहण से जुड़े विभागों में सामाजिक दूरी की पालना करवाई जायेगी। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रामेश्वर लाल ने कहा कि माॅडिफाइड लाॅकडाउन में पीक थूकने, सामाजिक दूरी की पालना करने तथा बेवजह घरों से निकलने पर पाबन्दी रहेगी। इन नियमों को तोड़ने वालों के खिलाफ शक्ति से निपटा जायेगा।
बैठक में जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी प्रहलाद सहाय नागा, एडीएम सीलिंग राधेश्याम, उपखण्ड अधिकारी रोहिताश्वसिंह तोमर, यूआईटी सचिव देशलदान, जलदाय विभाग के अधीक्षण अभियंता दिनेश चन्द पुरोहित, डिस्काॅम के अधीक्षण अभियंता घनश्याम चैहान, प्रादेशिक परिवहन अधिकारी प्रवीणा चारण, रीको एवं उद्योग के महाप्रबंधक, पशु पालन विभाग के संयुक्त निदेशक डाॅ चक्रधारी गौतम, उप अधीक्षक पुलिस नारायणदान, पीएमओ डाॅ. आर.पी अरोड़ा, जिला रसद अधिकारी सुरेशदत्त पुरोहित, डिप्टी सीएमएचओ डाॅ. विकास मारवाल, जिला आबकारी अधिकारी भुपेन्द्रसिंह सहित संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।