घर वापसी के आस मे मिली मजदूरो की मौत

महाराष्ट्र से ब्यूरो रिपोर्ट
औरंगाबाद.कोरोना वायरस संकट और लॉक डाउन की वजह से देश के अलग-अलग जगहों पर प्रवासी मजदूर फंसे हुए हैं हर कोई अपने घर आने को बेताब है मगर महाराष्ट्र के औरंगाबाद में इन मजदूरों को कहां पता था कि घर वापसी की उनकी आस रेल की पटरी पर ही दम तोड़ देगी दरअसल महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक दर्दनाक हादसा हुआ है जहां पटरी पर सो रहे मजदूरों को एक मालगाड़ी ने रौंद डाला इस हादसे में करीब 14 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई है और करीब 5 लोग घायल हो गए हैं मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह हादसा सुबह 6:00 बजे के करीब हुआ है जब पैदल घर लौट रहे प्रवासी मजदूर रेलवे ट्रैक पर ही सो रहे थे तभी अचानक उनके ऊपर से मालगाड़ी गुजर गई सुबह के वक्त गहरी नींद में होने की वजह से किसी को भी संभलने का मौका नहीं मिला और घर वापस लौटने की उम्मीद उनकी वही टूट गई औरंगाबाद के जलाना रेलवे लाइन के पास यह हादसा हुआ है दक्षिण मध्य रेलवे एनसीआर के मुताबिक जनसंपर्क अधिकारी ने कहा कि औरंगाबाद के पास जो हादसा हुआ है मालगाड़ी के खाली रहे थे कुछ लोगों को रौंदा घटनास्थल पर पुलिस मौके पर जुटी हुई है और राहत बचाव कार्य चल रहा है दक्षिण मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी ने कहा कि हादसे में 14 लोगों की मौत हो गई है और 5 लोग घायल हैं घायलों को औरंगाबाद के सिविल अस्पताल में भेज दिया गया मजदूर छत्तीसगढ़ मध्य प्रदेश के बताए जा रहे हैं यह सभी अपने घर पैदल जा रहे थे तो आराम करने के लिए सो रहे थे बता दें कि रोड के रास्ते में पुलिस से बचने के लिए कई मजदूर रेलवे ट्रैक का सहारा ले रहे हैं गौरतलब है कि कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सरकार ने मार्च महीने के अंतिम दिनों में लॉक डाउन का ऐलान किया था इसके बाद लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूर विभिन्न राज्यों में जहां-तहां फंस गए थे इसके बाद कई मजदूर पैदल ही घर के लिए निकल गए हालांकि तीसरे चरण का नाम घोषित होने के बाद केंद्र सरकार ने मजदूरों को उनके गृह राज्य पहुंचाने के लिए ट्रेनों का संचालन शुरू किया है रेलवे अभी तक 1 लाख से भी ज्यादा मजदूरों को उनके घर तक पहुंचा चुकी है