एक मां ऐसी भी मातृत्व दिवस के दिन इन्हें मिल रहा बचपन में सेवा करने का फल

गगन मिश्रा पड़रिया तुला
मातृत्व दिवस के दिन जहां फेसबुक व्हाट्सएप और सोशल मीडिया पर लोगों द्वारा ऐसी ऐसी फोटो व कमेंट डाली गई जिन्हें देखकर लगता है कि इनकी मां से बढ़कर कोई नहीं लेकिन कमेंट से परे वास्तविकता देखी जाए तो पता लगता है की इन लोगों के दिल में अपने मां के लिए कितनी जगह है यह सिर्फ 1 दिन के लिए फोटो क्लिक करने के लिए मां के पास बैठ जाते हैं और मुस्कुराने को कहते हैं फिर सोशल मीडिया पर तमाम ज्ञानवर्धक बातें लिखकर डाल देते हैं जैसे बहुत बड़े मातृ भक्त हैं लेकिन यदि मां पानी भी मांग लेती है तो इन्हें बहुत परेशानी होती है ऐसी ही एक तस्वीर मातृत्व दिवस वाले दिन देखने को मिली जब ग्राम मलूकापुर बेलवा निवासी एक वृद्ध मां अपने पोते व उसकी पत्नी द्वारा की गई मारपीट से आहत होकर बिजुआ चौकी पर रिपोर्ट दर्ज कराने जा रही थी जब गगन मिश्रा की नजर इस वृद्ध पर पड़ी तो पूरा मामला पता करने पर चल पता चला कि इसका पोता सालिक राम पुत्र केदारी वाह उसकी पत्नी बहू आए दिन मारता पीटता रहता है और कभी कुछ खाने पीने को भी नहीं देता इनके पति की मौत काफी पहले हो चुकी थी इसके बाद सारी संपत्ति इन्होंने पोते के नाम ही कर दी थी जब इनके ग्राम प्रधान से इस बारे में बात की तो पता चला उन्होंने कई बार उस सालिक को समझाया लेकिन वह समझ ही नहीं रहा यह वृद्ध मां गांव में इधर उधर मांग खाकर गुजारा करती है और इसकी हालत भी बहुत दयनीय है फिर भी यह पैदल चलकर 5 किलोमीटर पडरियातुला पहुंची थी और 10 किलोमीटर और आगे बिजुआ चौकी जाना था तो गगन मिश्रा ने इस वृद्धा को रोते हुए देख कर रोकने पर पता चला की वृद्धा बहुत दुखी है और दो तीन दिन से खाना भी नहीं खाया तब इसको भोजन वगैरा करा कर और कुछ आर्थिक मदद करके वापस अपने घर भेज दिया और पुलिस विभाग को इस पूरे मामले की सूचना दी जिस पर दीवान जी ने इस वृद्धा को न्याय दिलाने का आश्वासन दिया है और अभी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की बात कही मेरा आप सभी से यही कहना है यदि आप भी कभी ऐसे बुजुर्ग की किसी भी प्रकार की सेवा मदद कर सके तो अवश्य करें आखिर यह भी किसी न किसी की तो मां है