मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने सरकारी आवास पर चिकित्सा सेतु ऐप किया लांच

 

लखनऊ*। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जागरूकता के माध्यम से हम लोग कोरोना जैसी बीमारियों पर प्रभावी अंकुश लगा सकते हैं। कोरोना की चेन को तोड़ने में जिन योद्धाओं को बड़ी भूमिका का निर्वहन करना है, जब वे स्वयं संक्रमित होकर जहां-तहां क्वारंटाइन या आइसोलेशन के लिए चले जाएंगे तो शेष लड़ाई बाधित होगी। ऐसे में कोरोना वॉरियर्स के रूप में फ्रंट लाइन पर काम कर रहे डॉक्टर, पैरा मेडिकल स्टाफ, नर्स, वार्ड बॉय, सफाईकर्मी, पुलिस कर्मियों को हमें हर हाल में सुरक्षित रखना होगा। एक अदृश्य शत्रु के खिलाफ पूर्ण सतर्कता व सावधानी के साथ ट्रेनिंग प्रक्रिया को पूरे पारदर्शी तरीके से लागू करके ही हम सब इस पर विजय प्राप्त कर सकते हैं

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को अपने सरकारी आवास पर ‘चिकित्सा सेतु’ ऐप लांच किया है। इस दौरान उन्होंने कहा कि अकसर ट्रेनिंग के अभाव में कहीं ना कहीं, कोई ना कोई हॉस्पिटल बंद होता है। ऐसे में हमने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक ऐप के माध्यम से ट्रेनिंग का ऐसा माध्यम दे दिया है कि कोई भी व्यक्ति अगर ट्रेनिंग लेना चाहता है तो वो इस ऐप के जरिए जुड़ सकता है। चिकित्सा में ट्रेनिंग की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। उन्होंने कहा कि हम स्वयं बचते हुए और फिर दूसरों को इसके इंफेक्शन से बचाने के लिए मार्ग दिखाना होगा और इसको हमें हर हाल में लागू करना होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ‘चिकित्सा सेतु एप’ को व्यावहारिक बनाने के साथ ही इसे किसी भी प्रकार के साइबर अटैक से भी बचाने का प्रयास करें। इसका कहीं भी दुरुपयोग न होने पाए इसके बारे में भी हमें पूरी सतर्कता बरतनी चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश के हर जिले में कोविड L-1 व L-2 के अस्पताल हैं। हमने वहां ऑक्सीजन और वेंटिलेटर की सुविधा उपलब्ध करवाई है। ट्रेनिंग की उचित व्यवस्था की है। उन्होंने कहा कि जब हम लोगों ने कोरोना के खिलाफ अपनी लड़ाई आरम्भ की थी तब हमारे पास सैनिटाइजर, एन 95 मास्क और पीपीई किट की कमी थी, ट्रिपल लेयर मास्क के लिए भी हम लोगों को हाथ फैलाने पड़ते थे। लेकिन आज देश व प्रदेश में भी इसकी पर्याप्त उपलब्धता है और हमने इसमें आत्मनिर्भरता भी हासिल की है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम अक्सर देखते हैं कि थोड़ी सी लापरवाही के कारण पूरी टीम को क्वारंटाइन होने के लिए मजबूर होना पड़ता है, हमे इसके बारे में सतर्कता बरतनी होगी। जैसे भी हो कोरोना चेन को हर हाल में, हर स्थिति में तोड़ना है और इसके लिए अपने आपको तैयार करना होगा और ‘चिकित्सा सेतु एप’ अपनी भूमिका का निर्वहन करने में सफल होगा।

इस मौके पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना, मुख्य सचिव आरके तिवारी, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा रजनीश दुबे समेत कई वरिष्ठ चिकित्सक व अधिकारी मौजूद रहे।