सहूलियत : बिहार में 14 स्थानों पर होने लगी कोरोना की जांच, 2000 सैम्पलों की रोज जांच हो रही

 

पटना*। बिहार में कोरोना की जांच का दायरा बढ़ गया है। अभी तक 7 स्थानों पर आरटीपीसी आर मशीन से कोरोना की जांच की जा रही थी जबकि अब 7 नए स्थानों पर भी कोरोना की जांच शुरू कर दी गयी है। इस प्रकार, बिहार में 14 स्थानों पर कोरोना की जांच प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। इससे कोरोना के संक्रमण की जांच की गति तेज हो गई है।
ट्रू नेट मशीन से 7 जांच केंद्रों पर हो रही जांच
बिहार में 7 जिलों में स्थित स्वास्थ्य संस्थानों में कोरोना की जांच ट्रू नेट मशीन से शुरू की गई है। इनमें पावापुरी मेडिकल कॉलेज अस्पताल, नालंदा, कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल, मधेपुरा, गया मेडिकल कॉलेज अस्पताल, गया, सीवान मेडिकल कॉलेज अस्पताल, सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल, बेतिया, जिला अस्पताल मुंगेर और मोतिहारी शामिल है।  इसके पूर्व आरएमआरआई, पटना, पीएमसीएच, पटना, आइजीआइएमएस, पटना, एम्स, पटना, एसकेएमसीएच, मुजफ्फरपुर, जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल भागलपुर और डीएमसीएच, दरभंगा में कोरोना की जांच की जा रही थी।
दो हजार सैम्पलों की रोज जांच हो रही
विभाग से मिली जानकारी के अनुसार राज्य के 7 स्वास्थ्य संस्थानों में औसतन 1050 सैम्पलों की जांच की जा रही थी जबकि यह औसत बढ़कर अब दो हजार सैम्पल की जांच प्रतिदिन हो रही है। गौरतलब है कि राज्य सरकार ने कोरोना जांच की क्षमता प्रतिदिन दस हजार किये जाने का निर्देश दिया है।

28 नए ट्रू नेट मशीन केंद्र से जल्द मिलने की उम्मीद
विभाग के आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि केंद्र सरकार से 85 ट्रू नेट जांच मशीन की मांग की गई है। इसमें अभी 15 मशीन ही मिले हैं। जबकि 28 जांच मशीन के जल्द ही मिलने की संभावना है। इससे कोरोना मरीज की जांच की गति और तेज होगी।