थाना रामकोट क्षेत्र के सहसापुर व मंसूरपुर बेधड़क धंधक रही रही है अवैध शराब की भट्ठीया

 

 

(सीतापुर) उत्तर प्रदेश सरकार में बहुत ही प्रयास किए हैं कि गांव में अवैध शराब बनाने व बिक्री पर रोक लगाई जाए इस तरफ से तमाम घर तबाह हो चुके हैं शराब के सेवन से शराब पीने वाले व्यक्ति को काफी नुकसान हो सकता है इसलिए सरकार ने कठोर निर्णय देते हुए इसको बंद कराने का पूरा प्रयास किया मगर शायद ही जिम्मेदारों को यह मंजूर नहीं है। जनपद सीतापुर के थाना रामकोट के अंतर्गत ग्राम सहसापुर व मंसूरपुर में खुलेआम बेधड़क अवैध शराब बनाई व बेची जाती है ऐसा नहीं है इस अवैध शराब से संबंधित अधिकारी अनजान है इस अवैध शराब बनाने व बेचने वालों से संबंधित अधिकारी भली-भांति परिचित और जानकारी में है मगर फिर भी ना जाने क्यों कार्रवाई करने से कतराते हैं।
वैसे ग्रामीणों का कुछ यह भी कहना है कि यहां अक्सर कार्रवाई के नाम पर खाकी वर्दीधारी आते तो हैं मगर किसी पर कार्रवाई होती दिखती नहीं।
वहीं अवैध शराब का कारोबार करने वाले मूछों पर ताव देते हुए या भी कहते हुए सुने जाते हैं कि हमारा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता है जहां जी चाहे वहां शिकायत कर लो क्योंकि हम प्रत्येक सप्ताह नजराना जो भेजते हैं।
अगर इन बातों को सच माना जाए तो क्या वास्तविक जिम्मेदार लोग इतने गिर गए हैं कि वह अपना कर्तव्य निभाने से भी शर्मा रहे हैं या यूं कहा जाए कि वह अपने ईमान को भेज चुके हैं फिलहाल जो भी हो ग्राम सहसापुर वा मंसूरपुर की अवैध रूप से बना हुआ बेचे जाने वाली शराब की चर्चाएं जनपद के कोने कोने में हो रही है। और ग्रामीण व नगरवासी आज भी शासन और प्रशासन पर उम्मीद लगाए बैठे हैं कि कभी ना कभी इन पर कठोर कार्रवाई की जाएगी और इनका यह गोरखधंधा बंद होगा।