एक बार फिर विधायक रोमी साहनी पेश की मानवता की मिसाल पूरे उत्तर प्रदेश में हो रही प्रशंसा इनके लिए निकल रही है दिल से दुआ

 

गगन मिश्रा पड़रिया तुला
जनता के सुख-दुख व दुख दर्द को अपना दुख दर्द समझने वाले विधायक रोमी साहनी पूरे प्रदेश के विधायकों के लिए मिसाल बन रहे हैं सामाजिक सहायता के छेत्र में लोगों के दुख दर्द में आगे रहने के कारण उनके क्षेत्र वासी उनको फरिश्ते की संज्ञा देते हैं पूरे जिले की जनता प्रशासन व राजनीतिक लोग भी उनकी प्रशंसा करते नहीं थकते यहां तक कि विपक्षी भी कभी इनके खिलाफ व्यक्तिगत नहीं बोलते और उनकी कार्य शीलता से विपक्ष भी उनसे प्रेरणा लेने की बात करते रहते रहता है विधानसभा क्षेत्र की आम जनता क्षेत्र के आसपास के इलाकों में भी मदद करने के लिए आगे रहते हैं उनका मानना है कि कोई भी पीड़ित चाहेंगे विधानसभा क्षेत्र का निवासी हो या पूरे लखीमपुर में कहीं का भी निवासी है उसकी निस्वार्थ सेवा करते हैं सिर्फ वोटर बढ़ाने वोटरों को रिझाने के लिए यह कोई कार्य नहीं करते और वास्तविक गरीबों की भरपूर मदद खुद करते हैं वह क्षेत्र की जनसमस्याओं को भी प्रमुखता से संज्ञान में लेकर कार्यवाही करवाते हैं यदि कहीं पर सर्तकता नजर आता है तो यह धरना प्रदर्शन करने में भी पीछे नहीं रहते जनता के हित के लिए प्रशासन से मदद करने के लिए कहते हैं और यदि प्रशासन ना मदद करे तो धरना प्रदर्शन करके कार्य कराते हैं अपने पद का कभी भी दुरुपयोग नहीं करते हैं और ना ही झूठी शान किसी अधिकारी पर बघारते है और अनुनय विनय करके ही मामला सुलझाने की कोशिश करते रहते हैं
इसी के तहत जब ब्लॉक बांकेगंज के ग्राम रायपुर ग्रंट न0 11 की ममता देवी पहुंची विधायक रोमी साहनी के पास ओर बताया अपना दर्द, ममता देवी ने विधायक रोमी साहनी को बताया कि मेरे पति रंजीत गौतम का छत से गिरने से पैर टूट गया था, जिसको लखीमपुर अस्पताल में ले जाना है पैर के टांके कटाने जरुरी हैं और मेरे पास टांके कटाने के लिए रुपये नही हैं तो विधायक ने ममता देवी को 2500 पच्चीस सौ रुपये दिए, तो ममता देवी रोने लगी और बताया कि कोरोना की वजह से मुझे कोई भी गाड़ी किराये पर नही मिल पा रही है यह बात सुनकर विधायक रोमी साहनी अपनी फार्च्यूनर गाड़ी से उतर गए और अपनी गाड़ी उस गरीब महिला को उसके पति रंजीत गौतम को लखीमपुर अस्पताल ले जाने के लिये फार्च्यूनर गाड़ी उसको दे दी और खुद छोटी गाड़ी से पलिया क्षेत्र में चले गए, विधायक की गाड़ी देख रंजीत गौतम के आंखों में आँसू आ गए