हाईकोर्ट के आदेश के बाद भी अंग्रेजी विषय के खाली 826 पदों पर नहीं हुई नियुक्ति

 

रीट लेवल 2 अंग्रेजी विषय के खाली पड़े पदों को हाईकोर्ट के आदेश के बाद भी अब तक नहीं भरा गया है।

रीट लेवल 2 अंग्रेजी विषय की भर्ती को लेकर विवाद बढ़ता ही जा रहा है। उम्मीदवारों ने नियुक्ति की मांग करते हुए लॉकडाउन से पहले धरना दिया था। वहीं, लॉकडाउन के बाद उम्मीदवारों ने ट्विटर पर ट्रेंड चलाकर राजस्थान सरकार तक अपनी बात पहुंचाने का प्रयास किया। उम्मीदवारों ने 1 लाख 26 हजार से ज्यादा ट्वीट किए। बता दें कि राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश के बाद भी 826 सीटों पर उम्मीदवारों की नियुक्ति नहीं की गई है। हाईकोर्ट की सिंगल व डबल बेंच इन पदों पर वेटिंग लिस्ट जारी करने का निर्देश दे चुकी है, लेकिन शिक्षा निदेशालय बिकानेर द्वारा अभी तक वेटिंग लिस्ट जारी नहीं की गई है। उम्मीदवार शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा से लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तक से इस मामले पर संज्ञान लेने का अनुरोध कर चुके हैं। हालांकि इनकी सुनवाई कहीं नहीं हो रही। एक उम्मीदवार ने ट्वीट कर लिखा, ”हमारी भर्ती कोर्ट में लंबित भी नहीं है, कोर्ट द्वारा आदेश भी दिया जा चुका है फिर सरकार वेटिंग लिस्ट जारी क्यों नहीं कर रही? हमारी भर्ती पूरी कर 826 बेरोजगारों के साथ न्याय करें राजस्थान सरकार। एक उम्मीदवार ने ट्वीट कर लिखा, ”आत्महत्या करने को मजबूर राजस्थान का युवा। रीट 2016अंग्रेजी विषय की वेटिंग लिस्ट की आशा में दर दर भटक कर थक गए है बेरोजगार युवा।”

एक उम्मीदवार ने ट्वीट कर लिखा: क्या है पूरा मामला
उम्मीदवारों ने बताया कि रीट भर्ती 2016 में कुल 4761 पदों पर भर्ती हुई थी। इसके लिए 25 जनवरी 2018 को प्रोविजनल परिणाम जारी हुआ था। प्रोविजनल सूची को डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के बाद अंतिम रूप देने के लिए ‘परिणाम रिशफल’ किया गया। उम्मीदवारों का आरोप है कि उक्त ‘परिणाम रिशफल’ में नियुक्ति प्रकोष्ठ ने (अपात्र व अनुपस्थित श्रेणी के) रिक्त पदों पर नए अभ्यर्थियों को चुनते हुए ‘रिशफल परिणाम’ जारी कर दिया, लेकिन (नॉन जॉइनर्स) श्रेणी के करीब 450 रिक्त पदों पर न तो परिणाम रिशफल किया और न ही वेटिंग सूची जारी की, बल्कि पूर्व में नॉन जॉइनर्स रहे अभ्यर्थियों के रोल न./मेरिट न.रिपीट कर दिए। इससे कुल मिलाकर 450 पूर्व के नॉन जॉइनर्स+रिशफल रिजल्ट के बाद के 376 नॉन जॉइनर्स के (कुल 826) पद रिक्त रह गए। हाईकोर्ट इन पदों को भरने का आदेश दे चुकी है लेकिन अभी तक इस भर्ती को आगे नहीं बढ़ाया गया है