साउथ दिल्ली नगर निगम में मल्टी लेवल पार्किंग के हुए टेंडर के बाद नेताओं के चहेतो ठेकेदारो को टेंडर नही मिलने से नाराज अब कराना चाहते है टेंडर रद्द

 

मोहम्मद इरफान

कोरोना संक्रमण काल मे एक तरफ जहा आर्थिक तंगहाली से साउथ दिल्ली नगर निगम जूझ रहा है वही आर्थिक मंदी से निकलने के लिए साउथ दिल्ली नगर निगम के अधिकारी लगातार ये कोशिश में जुटे है कि कैसे निगम का रेवन्यू बड़े और इसी के चलते निगम ने मल्टीलेवल पार्किंग टेंडर कि प्रक्रिया शुरू की थी ओर 6 मल्टीलेवल पार्किंग का टेंडर जारी कर दिया था लेकिन अब इस पार्किंग के टेंडर को लेकर घमासान मच गया है टेंडर की प्रक्रिया को लेकर कुछ नाराज ठेकेदारों ने इसके खिलाफ आवाज उठाई है कि पार्किंग टेंडर में अनियमिता बरती गई है लेकिन और इसलिए इन पार्किंग के टेंडर को तुरंत रद्द किया जाए लेकिन सच्चाई कुछ और ही है साउथ दिल्ली नगर निगम में कुछ नेता अपने चहेतों को मल्टी लेवल पार्किंग दिलवाना चाहते थे लेकिन अधिकारियों ने उनकी एक नही सुनी जिसके बाद अब इस टेंडर को लेकर नाराज ठेकेदार अपने नेताओं के कहने पर इस पार्किंग का टेंडर रद्द करवाना चाहते है और इसके लिए बाकयदा ठेकेदार अब नेतायों से अधिकारियों पर लगातार इस टेंडर को रद्द करवाने के लिए दवाब डाल रहे है जबकि टेंडर प्रक्रिया के बाद 6 पार्किंग का अलॉटमेंट लेटर उन ठेकेदारों को सोप दिया गया है  पहले ये पार्किंग एक निजी कंपनी चलाती थी निजी कंपनी लगातार साउथ दिल्ली नगर निगम को लाखों का घाटा दे रही थी जिसके बाद साउथ दिल्ली नगर निगम ने इन पार्किंगों का टेंडर जारी किया गया था
इन पार्किंगों टेंडर को लेकर कुछ ठेकेदार हाई कोर्ट भी गए थे क्योंकि इन पार्किंग में स्पेशल कंडीशन थी जिसको कुछ ठेकेदार पूरा नही कर पाए थे हाई कोर्ट ने इनकी अर्जी को खारिज कर दिया था कि आप इन शर्तों को पूरा नही कर पाए थे जब इन ठेकेदारों को हाई कोर्ट से रिलीफ नही मिला तो इस टेंडर को रद्द कराने के लिए अब नेतायों का सहारा ले रहे है ताकि इस टेंडर को रद्द कराया जा सके और नेता लगातार इसको लेकर अधिकारियों पर दवाब बना रहे है  अगर ये ठेका रद्द होता है तो इससे साउथ दिल्ली नगर निगम को लाखों रुपए महीने का रेवन्यू का नुकसान उठाना पड़ सकता है जबकि कोरोना संक्रमण के चलते पहले ही निगम की आर्थिक स्थिति ठीक नही है