EMI विकल्प : जानिए निजी क्षेत्र के बैंकों में

 

निजी क्षेत्र के HDFC Bank और Axis Bank ने अपने ग्राहकों को टर्म लोन की EMI और क्रेडिट कार्ड बिल के भुगतान के लिए दी गई मोहलत को और तीन माह के लिए बढ़ा दिया है। इससे कोरोना वायरस महामारी से प्रभावित लोगों को बड़ी राहत मिलेगी। RBI के दिशा-निर्देश पर अमल करते हुए बैंकों ने यह कदम उठाया है। रिजर्व बैंक ने पिछले सप्ताह लोन के भुगतान पर मोराटोरियम को तीन और माह के लिए बढ़ाने की घोषणा की थी। बैंक अपने रिटेल ग्राहकों को EMI का भुगतान अगस्त तक नहीं करने की छूट दे रहे हैं। हालांकि, ग्राहकों के लिए यह जानना जरूरी है कि EMI के भुगतान को टालने पर आपको इस अवधि का ब्याज देना पड़ेगा। किसे मिल सकता है EMI टालने का विकल्प HDFC Bank ने जानकारी दी है कि एक मार्च, 2020 से पहले किसी भी तरह का रिटेल लोन (होम लोन, कार लोन, पर्सनल लोन) लेने वाले कस्टमर इस स्कीम का फायदा उठा सकते हैं। Axis Bank ने भी इस तरह के प्रोडक्ट्स पर तीन माह तक EMI नहीं देने का विकल्प दिया है। हालांकि, ग्राहकों को EMI पर मोराटोरियम देने का अधिकार बैंकों को है। पहले से ले रहे हैं मोराटोरियम तो भी करना पड़ेगा अप्लाई HDFC Bank ने स्पष्ट किया है कि अगर आपने मार्च से मई तक की अवधि के लिए मोराटोरियम लिया है तो भी आपको नए सिरे से आवेदन करना होगा। बैंक ने कहा है कि अगर आप मोराटोरियम का विकल्प चुनना चाहते हैं तो फिलहाल एक माह के लिए इसका चुनाव कर सकते हैं। आने वाले समय में भी अगर आपकी वित्तीय सेहत में सुधार नहीं होता है तो आप फिर से जुलाई, अगस्त के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं। बैंक की वेबसाइट से कर सकते हैं अप्लाई अगर आप EMI टालना चाहते हैं तो बैंक की वेबसाइट से इसके लिए अप्लाई कर सकते हैं। इसके लिए बैंक की वेबसाइट पर जाकर आपको मोराटोरियम ऑप्ट करने का विकल्प चुनना होगा। नहीं चाहते हैं मोराटोरियम तो क्या करना होगा अगर आप मोराटोरियम को ऑप्ट नहीं करना चाहते हैं तो आपको कुछ भी करने की जरूरत नहीं है। आपके ड्यू डेट पर आपके अकाउंट से EMI की राशि कट जाएगी।