बिहार में रात 9 बजे के बाद नहीं चलेंगी बसें,

अनलॉक-1 में बिहार में सार्वजनिक वाहनों के परिचालन की अनुमित दे दी गयी है. सिर्फ कंटेनमेंट जोन को छोड़ अन्य सभी जगहों पर परिचालन की सशर्त अनुमति दी गयी है. लंबे समय से बस, ऑटों के परिचालन बंद होने के कारण जिंदगियां मानों थम सी गयी थी. लेकिन करीब 64 दिनों के बाद फिर से बसों के परिचालन की अनुमति मिलने के बाद बस स्टैण्ड पर चहल पहल शुरू हो गयी है. परिवहन सचिव संजय अग्रवाल ने बताया कि बिहार में रात 9 बजे के बाद बसों का परिचालन नहीं होगा. अभी राज्य के अंदर ही बसों का परिचालन शुरू किया गया है. जल्द ही दूसरे राज्यों से सहमति मिलने पर अंतराज्यीय बसें भी चलायी जाएंगी. बात दे कि 1 जून से परिवहन विभाग ने बस परिचालन के लए कुछ शर्त लगाए है. बसों एवं सभी पब्लिक ट्रांसपोर्ट का परिचालन एक सीट एक व्यक्ति के सिद्धांत के अनुसार किया जा सकेगा. वहीं वाहनों को प्रतिदिन धुलावाने होंगे, साफ सुथरा रखने के लिए समय समयपर हरेक ट्रिप के पश्चात सेनिटाइज कराना सुनिश्चित करवाना होगा. ड्राइवर और कंडक्टर को साफ कपड़े एवं मास्त, ग्लबस पहनने होंगे, वाहनों के अंदर एवं बाहर कोविड-19 के संक्रमण से बचावों के उपायों संबंधी पोस्टर/ स्टिकर लगवाने होंगे. साथ ही जिला प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराए गए पम्पलेट का यात्रियों के बीच वितरण सुनिश्चित कराने होंगे. परिवहन विभाग की ओर से सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि प्रत्येक जिला प्रशासन अपने क्षेत्र के बस स्टैण्ड के पास दंडाधिकारी की नियुक्ति की जाएगी. जो गाइडलाइन का पालन कराने के लिए बाध्य होंगे.परिचालन का निर्देश बस परमिट का शर्त का अंश माना जाएगा. अगर इसका उल्लघंन करते पकड़े जाने पर उनपर कार्रवाई होगी. जिला प्रशासन की ओर से वाहन मालिकों को पंपलेट देने होंगे. जिसका वितरण बस यात्रियों के बीच कराया जाएगा. बस स्टैण्ड एव टैक्सी स्टैण्डों पर एनाउन्समेंट की व्यवस्था करनी होगी. जिसके माध्यम से कोविड-19 से बचाव के उपाए की घोषणा की जाएगी. नगर निकायों द्वारा बस स्टैण्डों की साफ सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित करनी होगी.