सुपर पावर नामक तंबाकू की मांग जोरों पर

गगनमिश्रा/नवीन गुप्ता
लॉक डाउन के बाद से नेपाल की ओर से सुपर पावर नामक तंबाकू की मांग जोरों पर है जिसके चलते भारत नेपाल सीमा के चंदनचौकी,ग्वारीफंटा,घोला बॉर्डर से जोरों पर हो रही सुपर पावर तंबाकू की तस्करी आपको बता दें नगर के कुछ लोग जोरों से लगे हैं तस्करी के काम में लॉक डाउन के बाद से ही पलिया गौरीफंटा रोड पर कई चौपहिया गाड़ियां जिनमें सफेद रंग की (इको) वैन व कई इनोवा गाड़ियों समेत तमाम मोटरसाइकिल पलिया से सुपर पावर तंबाकू बॉर्डर तक पहुंचाने में लगी रहती हैं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार घनश्याम नामक युवक समेत आधा दर्जन तस्कर लिप्त है सुपर पावर तंबाकू की तस्करी में सब कुछ जानते हुए भी चंदनचौकी व ग्वारीफंटा पुलिस मूकदर्शक नजर आ रही है सूत्रों की माने तो तस्करी के इस खेल में पुलिस के मिलीभगत होने की भी बात कही जा रही है आपको बता दें बहराइच के रिसिया में बन रही सुपर पावर तंबाकू पलिया तहसील क्षेत्र व आसपास की भारतीय दुकानों पर बिकती नहीं देखी जाती सूत्रों की मानें तो सुपर पावर तंबाकू की मांग नेपाल में बहुतायत है अब सवाल यह उठता है कि ट्रकों के हिसाब से नगर में आ रही सुपर पावर जाती कहां है जबकि भारतीय क्षेत्र में किसी भी दुकान पर सुपर पावर की फुटकर बिक्री नाम मात्र की है सूत्रों की माने तो नगर में कुछ थोक दुकानों के माध्यम से बिक रही सुपर पावर तंबाकू को तस्कर भारत नेपाल सीमा तक ले जाकर भारत से नेपाल पहुंचाने वाले कैरियर को मुहैया करा देते हैं जिसके बाद कैरियर उस माल को नेपाल पहुंचा देते हैं अब हम आप को समझाते हैं क्या है पूरा खेल 65 से ₹70 प्रति पैकेट रिसिया से खरीद कर आ रही सुपर पावर तंबाकू नगर के कई बड़े पान मसाला व्यापारियों के यहां 95 से 109 रुपए प्रति पैकेट मिल जा रही है यही 95 से ₹109 मे पलिया नगर में होलसेल में मिल रहे पैकेट को चंदनचौकी,ग्वारीफंटा घोला आदि बॉर्डर से सटे हुए गांव में रख दिए जाते हैं सूत्रों की मानें तो यही सुपर पावर तंबाकू का पैकेट जो भारत में ₹110 का है तो वही नेपाल में ₹220 भारतीय रुपए तक बिकता है सारे खर्चे निकालने के बाद भी ₹80 प्रति पैकेट तस्करों को बच जाता है सूत्रों की माने तो बड़े पैमाने पर पुलिस व कस्टम विभाग की मिलीभगत से चल रहे इस तस्करी के खेल में 1 दिन में लगभग 2000 पैकेट बॉर्डर क्षेत्र तक पहुंचा दिए जाते हैं जिसका मतलब है 1लाख 60 हजार रोजाना तस्करो की जेब मे नगर व बॉर्डर क्षेत्र के बच्चे बच्चे को सुपर पावर के तस्करी की जानकारी होने के बाद भी पुलिस को इतने बड़े मामले की जानकारी ना होना नामुमकिन लगता है अब देखने वाली बात यह है कि लगातार लिखी जा रही खबरों के बाद भी सुपर पावर तंबाकू की तस्करी में कमी ना आना पुलिस व भारत नेपाल सीमा पर लगी सुरक्षा एजेंसियों के काम पर सवाल खड़ा कर रही है