पुस्तक समीक्षा

कविता के कैनवास पर जीवन के रंगों का समावेश  . कवि : अजय पाठक . प्रकाशक : श्री प्रकाशन , A – 14 , आदर्श नगर , दुर्ग ( छत्तीसगढ ) मूल्य – 250 रुपये
‘ तुम अपने मनुहार भाव से . सपनों सी दुनिया रच डालो . उसके नीलगगन में उड़कर . निकलूँ पार कभी खो जाऊँ . पात – पात रसवंती होकर . झूमें तरुवर वृक्ष लताएँ . फूटे गंध शिलाओं में से .पावन – पावन बहें हवाएँ . अमृत कलश उड़ेलो मुझ पर . सरस उठे मन प्राण मूल तक . बोझिल – बोझिल पलकों से मैं . जागूँ और कभी सो जाऊँ . . . ( अजय पाठक )
कविता यथार्थ और रोमांस के सहारे ही लिखी जाती है और कवि अपनी रचना के इन दोनों किनारों के बीच सदैव एक पुल को रचता अपनी यात्रा में जीवन के तमाम पड़ावों की अनुभूतियों को जब कविता का विषय बनाता दिखायी देता है तो सचमुच काव्य रचना जीवन की साधना का पर्याय बनती दिखायी देती है . हिंदी कविता अपनी परंपरा और प्रयोगशीलता मे अक्सर इस द्वंद्व को किसी साक्ष्य के तौर पर प्रकट करती है और इसमें कवि के वैयक्तिक मनोभावों का गहरा सरोकार सदैव समाज और इसकी तमाम परिस्थितियों से कायम होता रहा है . सुपरिचित कवि अजय पाठक के कविता संग्रह ‘ किस नगर तक आ गये हम ‘ में संकलित उनकी तमाम कविताओं को इसी संदर्भ में देखा समझा जाना चाहिए . कवि ने इन कविताओं में हमारे समग्र सामाजिक परिवेश के वर्तमान यथार्थ के झूठ और सच को बेहद निकटता से जानने समझने की चेष्टा जहाँ एक ओर सबके मन को विचलन के भावों में समेटती दिखायी देती है तो दूसरी ओर अपनी अभिव्यक्ति में जीवन से गहरी आत्मीयता को प्रकट करता कविमन इसके शाश्वस्त राग विराग में भी आकंठ डूबा अपनी ओर सबको आकृष्ट करता है .
‘अर्द्धसत्यों के भरोसे . जिंदगी को काटकर . धर्म का निर्वाह होता . आदमी को बाँटकर . लोग जीते जा रहे हैं . झूठ के भावार्थ से . जीतने हम भी चले थे . प्रेम से परर्मार्थ से . पीठ पर खंजर पड़ा तो . तिलमिलाकर गिर पड़े हम .’
अजय पाठक की कविताओं में समय और समाज के तमाम छोटे – बड़े सवालों का समावेश बहुत ही शिद्दत से हुआ है और उनकी जीवन चेतना को धर्म और संप्रदाय के नाम पर समाज में उभरने वाले भयावह संकटों के साथ समाज में आम आदमी के घर आँगन में फैले उसके जीवन के छोटे – बड़े सुख – दुख के प्रसंग समान रूप से झकझोरते सामने आते हैं . इसलिए इन कविताओं .की अर्थव्याप्ति की विवेचना आसान नहीं है . वस्तुत: इनमें उसके हृदय के आत्मीय उद्गारों का समावेश है और सामाजिक जीवन की नयी – पुरानी विसंगतियों के प्रति उसके मन का क्षोभ और आक्रोश का भाव भी चिंतन के नये रचनात्मक सतह पर कविता को गढने के यत्न से जुड़ा है .
‘ स्वप्न देखे जा रहे थे . दीप , अक्षत , फूल के . यह विरोधाभास है कि . दंश झेलें शूल के . देवगण तो आज तक हैं . सोमरस में ही मगन . स्वर्ग उनकी देहरी है . द्वार उनका है गगन . ढँग उनका है विलासी . देखकर चकरा गये ‘
: कवि ने इन कविताओं में हमारे समग्र सामाजिक परिवेश के वर्तमान यथार्थ के झूठ और सच को बेहद निकटता से जानने समझने की चेष्टा जहाँ एक ओर सबके मन को विचलन के भावों में समेटती दिखायी देती है तो दूसरी ओर अपनी अभिव्यक्ति में जीवन से गहरी आत्मीयता को प्रकट करता कविमन इसके शाश्वस्त राग विराग में भी आकंठ डूबा अपनी ओर सबको आकृष्ट करता है .
कवि ने इन कविताओं को संसार और समाज के प्रति अपने मन के गहरे प्रेम से रचा है और इस क्रम में प्रकृति सदैव उसकी सहचरी के रूप में कविता की ओट में खड़ी प्रतीत होती है . ग्राम्य जीवन की अनुभूतियाँ और नगरीय जनजीवन के कोलाहल के पास सिमटती मनुष्य की जीवनयात्रा के अनेक आयामों से उभरे सवालों को टटोलती इन कविताओं को पढना किसी सुखानुभूति से कम नहीं है .

राजीव कुमार झा . ह्वाटस अप 8102180299