नेपाल के तराई मे हो रही बारिश से बिहार मे गंडक उफान पर

,

पश्चिम चम्पारण -नेपाल की तराई मे हो रहे तेज बारिश के बाद वाल्मीकिनगर गंडक बराज से 1लाख 63 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया है. जिसके बाद गंडक नदी उफान पर है. कई निचले इलाको मे बाढ़ की आशंका है जिला प्रशासन अलर्ट पर है.
पश्चिम चम्पारण के निचले इलाको मे पानी फैलाने की आशंका के बाद जल संसाधन विभाग के साथ ही जिला प्रशासन को भी अलर्ट किया गया है. तटबंध पर 24 घंटे अभियंताओ को मुस्तैद रहने का निर्देश दिया गया है. पानी छोड़ने के बाद कई किसानों ने कहा है की वह खेती के लिए तैयारी किए थे. लेकिन पानी आने के कारण खेती अब होने की संभावना कम हो गई है. कैसे गुजारा होगा इसकी चिंता सत्ता रही है. बाँध पर खतरा. अब नेपाल ने बिहार की सिचाई और बाढ़ निरोधक योजनाओं अब वाल्मीकिनगर मे गंडक बराज के एफ्लकस बाँध की मरम्मत का अनुमति नहीं दे रहा है. अगर बाँध पर पानी का दवाब बढ़ा तो बाँध टूट सकता है. लेकिन इसको नेपाल हल्के मे ले रहा है. बिहार के जल संसाधन विभाग के अधिकारी लगातार संपर्क करने की कोशिश कर रहे है. इसको लेकर लेटर भी लिखा गया है. लेकिन नेपाल लॉकडाउन का कारण बताकर पला झाड रहा है. गंडक बराज मे कुल 36 फाटक है. इसमें आधा फाटक नेपाल के हिस्से मे पड़ता है. भारत के हिस्से मे पड़ने वाले बाँध की मरम्मत हो चुकी है. लेकिन नेपाल एरिया मे पड़ने वो बाँध का मरम्मत का काम बाकी है. भारी बारिश होने के बाद बाँध पर पानी का दवाब बढेगा. ऐसे मे अगर बाँध टुटा तो भारी नुकसान बिहार को हो सकता है.