आदित्यनाथ को मिली जान से मारने की धमकी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक बार फिर डायल 112 के व्हाट्सएप नंबर पर जान से मारने की धमकी भरा मैसेज भेजा गया है। मंगलवार को यह मैसेज मिलते ही पुलिस महकमा अलर्ट हो गया। मैसेज में मुख्यमंत्री के साथ साथ कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों के हत्यारोपित विकास दुबे को भी जान से मारने की बात लिखी गई थी।

एसीपी मोहनलालगंज डॉक्टर संजीव सिन्हा के मुताबिक, अहिमामऊ चौकी इंचार्ज की तहरीर पर सुशांत गोल्फ सिटी थाने में एफआइआर दर्ज की गई है। छानबीन में पता चला कि धमकी भरा मैसेज कानपुर देहात से भेजा गया है। इसके बाद पुलिस टीम को पड़ताल में लगाया गया। पुलिस ने मंगलवार शाम को मैसेज भेजने वाले एक 12वीं के छात्र को पकड़ा है। छात्र को जुवेनाइल कोर्ट के समक्ष पेश किया गया है। मामले की छानबीन की जा रही है। पुलिस ने छात्र के पास से एक मोबाइल फोन बरामद किया है, जिससे उसने मैसेज भेजा था।

विकास दुबे को कोर्ट में सरेंडर करने के लिए ऑनलाइन आवेदन करना होगा

दिल्ली की कोर्ट में आत्मसमर्पण करने की कोशिश में है। बताया जा रहा है कि यूपी पुलिस द्वारा एनकाउंटर किए जाने के डर से विकास दुबे दिल्ली की किसी कोर्ट में आत्मसमर्पण की तैयारी कर रहा है। यहां पर बता दें कि कोरोना वायरस संक्रमण के चलते 15 अगस्त तक दिल्ली की सभी कोर्ट में सामान्य कामकाज ठप है। ऐसे में विकास दुबे को कोर्ट में समर्पण के लिए अपने वकील के जरिये ऑनलाइन आवेदन करना होगा। जानकारों के मुताबिक, कोर्ट की मंजूरी मिलने  पर ही वह अपने वकील के जरिये संबंधित जज के घर जाकर आत्मसमर्पण करना होगा। सूत्रों के अनुसार विकास दुबे दिल्ली-एनसीआर में ही कहीं छिपा हुआ है।

Police Encounter:  यूपी पुलिस द्वारा ऑपरेशन क्लीन, भदोही में शातिर अपराधी दीपक पुलिस एनकाउंटर में ढेर

अपराध व अपराधी पर किसी भी प्रकार के रहम न दिखाने का प्रण कर चुकी प्रदेश की पुलिस अब उनको दूसरी दुनिया का रास्ता दिखा चुकी है।भदोही में पुलिस ने बाल सुधार गृह रामनगर, वाराणसी से फरार होने के बाद अपराध जगत में बादशाहत जमाने वाले दीपक गुप्ता उर्फ रवि को मुठभेड़ में ढेर कर दिया है। दीपक उर्फ रवि पर अंबेडकरनगर में 15,000 व वाराणसी पुलिस ने 10000 रुपये का इनाम घोषित किया था। इसके साथ भदोही पुलिस ने 25 हजार का इनाम घोषित किया था। मुठभेड़ के दौरान स्वाट थाना प्रभारी अजय सिंह भी जख्मी हुए हैं।

सोमवार की रात करीब 1:30 बजे थानाध्यक्ष सुरियावां व स्वाट प्रभारी चेकिंग में निकले थे। चकिया तिराहे पर दो अज्ञात व्यक्ति मोटरसाइकिल से आते दिखाई दिए। उन्हेंंं रुकने के लिए कहा गया, लेकिन उन्होंने पुलिस पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाई जिसमें कांस्टेबल सचिन के बुलेट प्रूफ जैकेट में गोली लगी। मुठभेड़ में क्राइम ब्रांच प्रभारी अजय सिंह सेंगर के पैर में गोली है जबकि एक सिपाही सचिन झा की बुलेट प्रूफ जैकेट में गोली लगी। स्वाट प्रभारी अजय सिंह के पैर में गोली लग कर पार हो गई। पुलिस की जवाबी फायरिंग में दीपक उर्फ रवि मारा गया और दूसरा फायर करते हुए भाग गया।50 हजार के इनामी बदमाश दीपक को दो गोली लगी। इसके बाद दीपक को अस्पताल भेजा गया, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।मारे गए बदमाश दीपक के विरुद्ध प्रदेश के अलग-अलग जनपदों में कुल 14 मुकदमा दर्ज है।

 मंत्री ने एक करोड़ राशि का प्रमाण पत्र,शहीद सीओ देवेंद्र मिश्रा की पत्नी को सौंपा, विकास के घर में मिले तीन बम !

पुलिस की साठ टीमें मोस्ट वांटेड विकास दुबे की तलाश में जुटी हैं, उसके मध्य प्रदेश और राजस्थान भाग जाने की आशंका बढ़ गई है। वहीं पुलिस ने विकास की बहू, नौकरानी और एक पड़ोसी को गिरफ्तार किया है। मुठभेड़ में शहीद हुए आठ पुलिस जवानों के परिवार को जिले पुलिसकर्मी और अधिकारी एक दिन वेतन देंगे।

मंगलवार को लोक निर्माण विभाग के राज्यमंत्री चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय मंगलवार को शहीद सीओ देवेंद्र मिश्रा के सिविल लाइन स्थित आवास पहुंचे। उन्होंने बलिदानी सीओ की पत्नी को एक करोड़ की राशि खाते में हस्तांतरित किए जाने का प्रमाण पत्र सौंपा।

पुलिस के सर्च अभियान में विकास दुबे के पुराने घर में तीन बम मिले हैं। पुलिस अधिकारियों ने तीन बम निष्क्रिय कराने के बाद कब्जे में लिए हैं।