जांच के घेरे में आए अनंत देव को हटाया गया

कानपुर में दुर्दांत अपराधी विकास दुबे की गिरफ्तारी को पहुंची पुलिस टीम पर हमले में शहीद सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्र के पत्र को लेकर जांच के घेरे में आए तत्कालीन एसएसपी और मौजूदा डीआईजी एसटीएफ अनंत देव तिवारी को मंगलवार रात को शासन ने हटाकर मुरादाबाद पीएसी भेज दिया। अभी तक वह एसटीएफ की उस टीम का हिस्सा थे जो कानपुर मुठभेड़ कांड की जांच कर रही है। मंगलवार को पत्र प्रकरण की जांच करने पहुंचीं आईजी लक्ष्मी सिंह की रिपोर्ट आने के बाद योगी सरकार ने उन्हें हटाने का फैसला किया। इससे पहले सीओ देवेंद्र मिश्र के परिजनों ने भी अनंत देव पर सवाल खड़े किए थे। इसी के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पूरे मामले के जांच के आदेश दिए थे।

बता दें कि बीते दिनों निलंबित आईपीएस अधिकारी वैभव कृष्ण ने पांच आईपीएस अधिकारियों की भूमिका पर गंभीर सवाल उठाए थे, उनमें सुधीर कुमार सिंह का नाम भी शामिल था, जिन्हें तब जिले की पोस्टिंग से हटाकर पीएसी में भेज दिया गया था। मामले की जांच डीजी विजिलेंस की अध्यक्षता में गठित एसआईटी को सौंप दी गई थी। एसटीएफ लखनऊ मुख्यालय में लंबे समय के बाद एसएसपी की तैनाती की गई है। वर्तमान में एएसपी एसटीएफ विशाल विक्रम सिंह बतौर प्रभारी एसएसपी एसटीएफ का कार्यभार संभाल रहे थे।