बुद्ध का धर्मचक्र प्रवर्तन

राजीव कुमार झा
बौद्ध धर्म में आषाढ़ मास को पवित्र माना जाता है और इसी माह के पूर्णिमा के दिन सारनाथ में गौतम बुद्ध ने अपना पहला धर्मोपदेश संसार को दिया था . बौद्ध धर्म में इसे धर्मचक्र प्रवर्तन कहा गया है . सारनाथ देश का प्रसिद्ध धर्मस्थल है और यह वाराणसी के पास स्थित है . महात्मा बुद्ध वर्षा ऋतु में परिभ्रमण नहीं करते थे . वे अपना वर्षावास राजगीर में व्यतीत करते थे और यहाँ गृद्धकूट पर्वतचोटी पर वे एक शिलाश्रय में वर्षाकाल व्यतीत करते थे . भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने यहाँ इस स्थल को चिह्नित भी किया है ।