पायलट बड़ा बयान- भाजपा में नहीं होंगे शामिल

राजस्थान में जारी सियासी उठापटक के बीच सचिन पायलट ने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि वे भाजपा में शामिल नहीं होंगे। उन्होंने यह बात समाचार एजेंसी एएनआइ से कही है। उन्होंने इसे लेकर कहा, ‘राजस्थान में कुछ नेताओं ने अटकलों को हवा देने की कोशिश की कि मैं भाजपा में शामिल हो रहा हूं, लेकिन मैं ऐसा नहीं कर रहा हूं। मैंने राज्य में कांग्रेस को सत्ता वापस लाने के लिए बहुत मेहनत की है।’ इसी बीच राजस्थान कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि कांग्रेस विधायक दल की बैठकों में शामिल नहीं होने के लिए सचिन पायलट और पार्टी के 18 अन्य सदस्यों को नोटिस जारी किया गया है।

कांग्रेस पार्टी ने विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत के वल्लभनगर स्थित आवास पर नोटिस चिपका दिया है। पांडे ने आगे कहा भगवान सचिन पायलट को बुद्धि दें और वह सरकार को गिराने की कोशिश न करें। बातचीत के लिए दरवाजे उनके लिए हमेशा खुले हैं, लेकिन अब वह इन सब से आगे निकल गए हैं। इसलिए ये बातें अब मायने नहीं रखती हैं।

भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने उनको पार्टी में शामिल होने के लिए आमंत्रण दिया है, लेकिन पायलट अपना अलग मोर्चा बनाने की तैयारी में हैं। इससे पहले कांग्रेस ने मंगलवार को कार्रवाई करते हुए पायलट को उप-मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से हटा दिया, लेकिन पार्टी से बाहर नहीं किया गया। इस दौरान पायलट के दो समर्थक मंत्रियों विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को भी मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया गया।

राज्य कांग्रेस पार्टी इकाई के सभी प्रकोष्ठों और विभागों को किया भंग

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) के महासचिव और राजस्थान के पार्टी प्रभारी अविनाश पांडे ने राज्य पार्टी इकाई के सभी प्रकोष्ठों और विभागों को भंग कर दिया। पांडे ने मंगलवार देर रात इस फैसले की जानकारी दी।कहा कि कोई भी कांग्रेसी नेता राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा की अनुमति के बिना मीडिया से संवाद नहीं करेगा।