बड़ी हर स्किल बनेगी आत्मनिर्भर भारत की शक्ति- प्रधानमंत्री मोदी

 

विश्व युवा कौशल दिवस (World Youth Skills Day, WYSD) के मौके पर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुभकामनाएं दी। उन्होंने स्किल यानि हुनर को बढ़ाने पर जोर दिया और कहा कि नए हुनर को सीखने का एक भी मौका नहीं गंवाना चाहिए। यही हुनर देश को आत्मनिर्भर बनाने में ताकत की तरह सहयोग करेगा।

स्किल मैपिंग पोर्टल की हुई शुरुआत

 प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘चार-पांच दिन पहले देश में श्रमिकों की स्किल  मैपिंग का एक पोर्टल भी शुरू किया गया है। यह पोर्टल कुशल  लोगों व  कुशल श्रमिकों की मैपिंग करने में अहम भूमिका निभाएगा। इससे एक क्लिक  में ही स्किल्ड मैप वाले वर्कर्स तक एंप्लायर्स पहुंच सकेंगे।’ कोशिश यही है कि भारत के युवा को अन्य देशों की जरूरतों के बारे में, उसके संबंध में भी सही और सटीक जानकारी मिल सके।’

हुनर  हमारी आकर्षण की ताकत

 प्रधानमंत्री मोदी ने देश के युवा वर्ग को संबोधित करते हुए कहा, ‘मेरे युवा साथियों को नमस्कार, आज का ये दिन आपकी skill को, आपके कौशल को समर्पित है।’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘कोरोना के इस संकट ने वर्क कल्चर साथ ही जॉब की प्रकृति को भी बदल दिया, बदलती हुई नित्य नूतन टेक्नोलॉजी ने भी उस पर प्रभाव पैदा किया है।’ उन्होंने कहा, ‘कई लोग मुझसे पूछते हैं, कि आज के दौर में व्यापार और बाजार में तेजी से बदलाव आता है तो समझ नहीं आता कि किस तरह यहां बरकरार रहें। कोरोना के इस समय में तो ये सवाल और भी अहम हो गया है।’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘जिंदगी में उमंग चाहिए, उत्साह चाहिए, जीने की जिद चाहिए, तो इसमें हुनर  हमारी आकर्षण की ताकत बनती है और  हमारे लिए नई प्रेरणा लेकर आती है। छोटी-बड़ी हर तरह की ऐसी ही हुनर आत्मनिर्भर भारत की भी बहुत बड़ी शक्ति बनेगी।’

हुनरमंद रहने का दिया मंत्र

 प्रधानमंत्री ने कहा कि इसके जवाब में वे एक मंत्र Skill, Re- Skill और upskill’  देते हैं। उन्होंने इसका विश्लेषण भी किया, कहा- Skill का अर्थ है, आप कोई नया हुनर सीखें। जैसे कि आपने लकड़ी के एक टुकड़े से कुर्सी बनाना सीखा, तो ये आपका हुनर हुआ। आपने लकड़ी के उस टुकड़े की कीमत भी बढ़ा दी Value Addition किया।’  लेकिन ये कीमत बनी रहे, इसके लिए नए डिज़ाइन, नई स्टाइल, यानी रोज़ कुछ नया जोड़ना पड़ता है। उसके लिए हर रोज कुछ नया सीखना है और कुछ नया सीखते रहने का मतलब, ये है Re- Skill। Skill, Re- skill और Upskill का ये मंत्र जानना, समझना, और इसका पालन करना, हम सभी के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण है।’

स्किल बढ़ाने का मौका जाने न दें

प्रधानमंत्री ने कहा,’स्किल की ये ताकत जो है, इंसान को कहां से कहां पहुंचा सकती है। एक सफल व्यक्ति की बहुत बड़ी निशानी होती है कि वो अपनी स्किल बढ़ाने का कोई भी मौका जाने न दे। स्किल के प्रति अगर आप में आकर्षण नहीं है, कुछ नया सीखने की ललक नहीं है तो जीवन ठहर जाता है। एक रुकावट सी महसूस होती है। एक प्रकार से वो व्यक्ति अपने व्यक्तित्व को, अपने व्यक्तित्व को ही बोझ बना लेता है।’ उन्होंने आगे कहा, ‘वहीं स्किल के प्रति आकर्षण जीने की ताकत देता है, जीने का उत्साह देता है। यह केवल रोजी-रोटी और पैसा कमाने का जरिया नहीं है। जिंदगी में उमंग चाहिए, उत्साह चाहिए, जीने की जिद चाहिए, तो स्किल हमारी ड्राइविंग फोर्स बनती है, हमारे लिए नई प्रेरणा लेकर आती है।’

लाखों लोगों को मिल रहे रोजगार के अवसर

‘कौशल भारत (Skill India)’  केंद्र सरकार (Central Government) की एक पहल है जिसकी शुरुआत आज से पांच साल पहले हुई थी। इस पहल की शुरुआत युवाओं के कौशल क्षमता को सशक्त बनाने के लिए की गई थी। प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के अंतर्गत कुल 92 लाख उम्मीदवारों को प्रशिक्षित किया गया और लाखों लोगों को रोजगार के अवसर मिल रहे हैं।  प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना महिलाओं को हुनर प्रदान कर उनकी जिंदगी आसान बना रही है।  हर साल 15 जुलाई को UN से मान्यता प्राप्त इवेंट WYSD मनाया जाता है।

आज शाम 4.30 बजे प्रधानमंत्री मोदी भारत-यूरोपीय संघ समिट को संबोधित करेंगे।