दिल्ली – पानी बर्बाद किया तो लगेगा 2000 रुपये जुर्माना

टंकी भरने के बाद भी मोटर चालू छोडकर भूल जाने या बागवानी में पेयजल की बर्बादी करने की आदत है, तो जरा संभल जाएं। दिल्ली जल बोर्ड ने इंजीनियरिंग, राजस्व विभाग व स्थानीय जोनल कार्यालयों को इस पर सख्ती से कार्रवाई करने का आदेश दिया है, इसलिए अब पानी की बर्बादी करने पर पहली बार में 2000 रुपये का जुर्माना हो सकता है। इसके बाद भी नहीं सुधरे तो जल बोर्ड प्रतिदिन 500 रुपये जुर्माना करेगा।

निरीक्षण में मिले दोषी तो कार्रवाई तय

दिल्ली जल बोर्ड के इंजीनियरिंग, राजस्व विभाग व सतर्कता शाखा के अधिकारियों की टीम कॉलोनियों में पानी आने के वक्त औचक निरीक्षण करेगी। इस दौरान किसी की टंकी से पानी गिरता मिला तो जुर्माना किया जाएगा। इसके अलावा पेयजल में इस्तेमाल होने वाले पानी से गाड़ी साफ करते या बागवानी में इस्तेमाल करने पर भी जुर्माना किया जाएगा।

कॉल सेंटर नंबर 1916 पर कर सकते हैं शिकायत

जल बोर्ड के अधिकारियों की मानें तो इसमें यह भी प्रावधान है कि पड़ोसी ने भी यदि गिरते हुए पानी की फोटो लेकर भेज दी तो भी कार्रवाई होगी। वहीं जल बोर्ड के केंद्रीय कॉल सेंटर 1916 पर कॉल करके भी शिकायत की जा सकती है।

…तो इसलिए उठाया जा रहा सख्त कदम

दिल्ली में करीब 1200 एमजीडी पानी की जरूरत होती है, जबकि जल बोर्ड प्रतिदिन करीब 935 एमजीडी पानी की आपूर्ति करता है। इस तरह करीब 265 एमजीडी पानी की कमी रहती है। वाहनों को साफ करने और बागवानी में भी लोग जल बोर्ड के पानी का इस्तेमाल करते हैं। पेयजल के दुरुपयोग पर जल बोर्ड ने पिछले साल जुर्माना करने का फैसला किया। जल बोर्ड द्वारा 15 जुलाई को जारी आदेश में कहा गया है कि पिछले आदेश पर गंभीरता से कार्रवाई नहीं हुई, लेकिन अब अधिकारी विभिन्न कॉलोनियों में पानी आने के समय पर इलाके का निरीक्षण करेंगे। संबंधित जोन के अधिशासी अभियंता व स्थानीय अधिकारी हर सप्ताह कार्रवाई रिपोर्ट मुख्यालय भेजेंगे।