सरकारी बैंकों की संख्या 12 से पांच करने की तैयारी

 

 

 

नई दिल्ली । देश में सरकारी बैंकों की संख्या को 12 से पांच पर लाने की तैयारी चल रही है। पहले चरण में बैंक ऑफ इंडिया, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन ओवरसीज बैंक, यूको बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र और पंजाब एंड सिंध बैंक में सरकार की हिस्सेदारी बेचने का कदम उठाया जा सकता है।

सरकार का विचार है कि देश में चार से पांच सरकारी बैंक ही होने चाहिए। एक अधिकारी ने बताया कि सरकार निजीकरण को लेकर नया प्रस्ताव बना रही है। इस प्रस्ताव में बैंकों की संख्या कम करने की योजना होगी। इसे पहले मंत्रिमंडल के समक्ष रखा जाएगा।

आर्थिक गतिविधियां सुस्त पड़ने के कारण देश इस समय फंड की कमी से जूझ रहा है। ऐसे में सरकार नॉन कोर कंपनियों और सेक्टर में परिसंपत्तियां बेचकर पैसे जुटाने के लिए निजीकरण की योजना पर काम कर रही है। रिजर्व बैंक का कहना है कि देश में पांच से ज्यादा सरकारी बैंक नहीं होने चाहिए। दूसरी ओर, सरकार कह चुकी है कि अब सरकारी बैंकों में और कोई विलय नहीं होगा।