झारखंड में कोरोना संक्रमण से एक ही परिवार के 6 लोगों की मौत

धनबाद ।   कोरोना माैत का तांडव कर रहा है। सबसे पहले कोरोना ने 88 वर्षीय वृद्धा की जान ली। इसके बाद एक-एक कर वृद्धा के पांच बेटों की भी जान ले चुका है। पांचवें बेटे की रविवार की रात रिम्स रांची में मृत्यु हुई। भारत में अपने तरह की यह इकलाैती ऐसी मनहूस घटना है, जिसमें कोरोना से एक परिवार में छह लोगों की माैत हो गई है। एक पखवारे के अंदर कोरोना ने एक हंसते-खेलते परिवार को उजाड़ दिया है। माैत दर माैत से कतरास के रानी बाजार मरघटी सन्नाटा पसरा हुआ है। कोई कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। धनबाद के कतरास इलाके के एक परिवार के लिए कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करना काल साबित हुआ। अब तक संक्रमण की चपेट में आकर इस परिवार के छह सदस्यों की मौत हो चुकी है। इस परिवार की सबसे बुजुर्ग (88  वर्षीय) महिला का अपने एक रिश्तेदार के शादी समारोह में शामिल होना पूरे परिवार के लिए जानलेवा साबित हुआ। इस समारोह से लौटने के बाद मां कोरोना से संक्रमित पाई गई। इसके बाद एक-एक कर इस मां के 5 बेटे भी संक्रमण की चपेट में आते चले गए। 4 जुलाई को दिन पहले मां की इलाज के दौरान मौत हुई तो परिवार में जैसे मौत का सिलसिला ही चल पड़ा। एक पखवारा में इस परिवार में मां और उसके 5 बेटों की मौत हो चुकी है।

कतरास के चाैधरी परिवार के छठे सदस्य की कोरोना से माैत रविवार की रात रिम्स रांची में हुई। रांची में ही अंतिम संस्कार कर दिया गया था। पहले धनबाद के पीएमसीएच में भर्ती कराया गया था। यहां तबीयत बिगड़ने के बाद रिम्स रेफर कर दिया था। इससे पहले मृतक के एक भाई की माैत भी रिम्स में ही हुई थी। सबसे पहले परिवार में 88 वर्षीय महिला की माैत बोकारो के चास स्थित नीलम नर्सिंग होम में हुई। अंतिम संस्कार के बाद महिला की जांच रिपोर्ट आई। वह कोरोना पॉजिटिव थी। इसके बाद एक-एक कर महिला के पांच बेटों की माैत हो गई है। महिला के छह बेटे थे। एक बेटा दिल्ली में है।

दिल्ली में अपने बेटे के पास रह रही महिला अपने पोते के शादी समारोह आई थी। यहां वह बीमार हुई तो बोकारो के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। चार जुलाई को उसकी मौत हो गई। इस बीच उसका अंतिम संस्कार भी कर दिया गया। इसके बाद जांच रिपोर्ट आई तो महिला पॉजिटिव निकली। यहां एक चूक यह भी हुई कि महिला का अंतिम संस्कार सामान्य विधि-विधान के तहत ही हुआ। मालूम ही नहीं था कि वह कोरोना संक्रमित है, अन्यथा मानकों का पालन कराकर प्रशासन दाह संस्कार कराता।