कमलनाथ ने चुनाव आयोग को लिखा पत्र, विधानसभा उपचुनाव बैलेट पेपर से कराने की मांग

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री एवं राज्‍य कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने चुनाव आयोग (Election Commission) को पत्र लिखकर सुझाव दिया है कि कोरोना महामारी को देखते हुए आगामी विधानसभा उपचुनाव बैलेट पेपर के जरिए कराए जाने चाहिए। निर्वाचन आयोग ने सभी राष्ट्रीय और क्षेत्रीय राजनीतिक पार्टियों से देश में आगामी चुनावों के दौरान प्रचार पर उनके विचार और सुझाव मांगे थे। आयोग ने एक पृष्ठ के पत्र में सभी पार्टियों से 31 जुलाई तक जवाब मांगा था।इस साल मध्‍य प्रदेश समेत कुछ राज्यों में उपचुनाव जबकि बिहार में विधानसभा का चुनाव कराए जाने हैं।

बीते दिनों निर्वाचन आयोग ने चुनावों में 65 साल से जयादा उम्र के नागरिकों के लिए पोस्टल बैलट सुविधा नहीं देने का फैसला किया था। हालांकि आयोग ने दिव्यांगों, 80 साल से ज्‍यादा उम्र के मतदाताओं, जरूरी सेवाओं में कार्यरत कर्मचारियों के साथ साथ कोरोना संक्रमितों को विकल्‍प के तौर पर पोस्‍टल बैलेट से मताधिकार के इस्‍तेमाल की इजाजत दी थी।

कमल नाथ ने पार्टी विधायक दल की बैठक में विधायकों को आगामी विस उपचुनाव में जुट जाने के निर्देश दिए थे। उन्‍होंने यह भी दावा किया था कि अगली जो भी बैठक होगी वह राजभवन में हमारी शपथ ग्रहण के बाद होगी। बिहार कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा ने कहा था कि बिहार में घर तक बैलेट पेपर पहुंचाकर निष्पक्ष मतदान की अपेक्षा नहीं की जा सकती है।

सांसद सुरेश कश्‍यप हिमाचल भाजपा के अध्‍यक्ष नियुक्‍त

शिमला। भारतीय जनता पार्टी आलाकमान ने सांसद सुरेश कश्‍यप को हिमाचल प्रदेश का नया अध्‍यक्ष नियुक्‍त किया है। सुरेश कश्‍यप शिमला संसदीय क्षेत्र से सांसद व सिरमौर जिला के पच्‍छाद विधानसभा क्षेत्र के रहने वाले हैं। प्रदेश में पार्टी अध्‍यक्ष पद के लिए महामंत्री त्रिलोक जम्‍वाल, विधायक राकेश जम्‍वाल, वरिष्‍ठ नेता प्रवीण शर्मा व राज्‍यसभा सदस्‍य इंदु गोस्‍वामी के नाम चर्चा में थे।

पूर्व अध्‍यक्ष डॉक्‍टर राजीव बिंदल के इस्‍तीफे के बाद से यह पद रिक्‍त चल रहा था। राजीव बिंदल ने स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के कथित घोटाले में उनका नाम घसीटे जाने पर इस्‍तीफा दे दिया था। 27 मई को भाजपा के पूर्व अध्यक्ष डाॅ. राजीव बिंदल के त्यागपत्र देने के बाद से ये पद लगातार खाली था।

सुरेश कश्यप को हिमाचल भाजपा की कमान सौंप कर भाजपा ने सिरमौर जिले को ही फिर से कमान सौंपी है। डाॅ. बिंदल भी सिरमौर जिला के नाहन से हैं। ऐसे में सिरमौर से लेकर शिमला संसदीय क्षेत्र को होने वाली नाराजगी को पार्टी ने उठने से पहले ही खत्म कर दिया है।

सुरेश कश्यप विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के दिग्गज नेता गंगूराम मुसाफिर को हराने के बाद विधानसभा पहुंचे थे। इसके बाद लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी का टिकट मिलने पर चुनाव लड़ा और वह सांसद बन गए। सुरेश कश्‍यप ने लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के अपने प्रतिद्वंद्वी को बड़े अंतर से हराया था। भाजपा के राष्ट्रीय सचिव अरुण सिंह ने सुरेश कश्यप को हिमाचल भाजपा का अध्यक्ष बनाने का पत्र जारी कर दिया है।