विकास दुबे ने फरारी के दौरान भाजपा नेता से मांगे थे 20 लाख रुपए

लखनऊ । कानपुर के बिकरू गांव में खूनी खेल खेलने वाले दुर्दांत विकास दुबे ने इस केस के बाद फरारी के दौरान एक नेता से बीस लाख रुपया की मांग की थी। इसका ऑडियो तथा व्हाट्सएप चैटिंग वायरस हो गया है। उसने वकीलों की चार जोड़ी ड्रेस के साथ आठ नंबर के जूतों की मांग की थी।

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे से जुड़ी तमाम जानकारियां सामने आ रही हैं। इस दौरान विकास ने मदद के लिए सपा विधायक का मोबाइल नंबर भी दिया। इस साथ ही विकास दुबे ने 20 लाख रुपया, चार जोड़ी वकीलों की ड्रेस और जूते का इंतजाम करने को कहा था। जब भाजपा नेता ने बताया ये इंतजाम मुश्किल है तो उसने एक सपा विधायक से मदद लेने को कहा था।

शुक्रवार को वायरल हुए ऑडियो में वह एक परिचित को बता रहा है कि इस वक्त मुश्किल घड़ी जरूर है, लेकिन संकट टल गया है। एक-दो दिन में कोर्ट में सरेंडर भी हो जाएगा। इंतजाम हो चुका है। ऑडियो में आवाज बदली लगने के सवाल पर वह कहता है, हम ही बोल रहे हैं। आप यह समझ लो। हम ओपेनली कुछ नहीं कह सकते, इसी कारण वाट्सएप काल की है।

विकास दुबे की यह बात थाना बजरिया क्षेत्र के रामबाग निवासी सुबोध तिवारी से हुई है। आठ मिनट सात सेकेंड की वाट्सएप कॉल को उन्होंने रिकॉर्ड कर लिया था। वह बताता है कि वाट्सएप कॉल ही इसलिए कर रहा है, ताकि कोई जान न सके। बताया कि वह ग्वालियर पहुंच चुका है। माना जा रहा है कि यह ऑडियो उसके उज्जैन पहुंचने से तीन चार दिन पहले का है। वह मानता है कि मामला बड़ा हो गया है। पूरा यूपी देख रहा है, लेकिन मैटर सेफ हो गया है। वह कई बार सुबोध तिवारी से पूछता है कि गुड्डन कहां हैं। उसके फोन नंबर बंद होने की बात पर वह बताता है कि गुड्डन उसका फेसबुक पेज चलाता है। वही ग्रुप एडमिन है। यह पेज मीडिया में हाईलाइट है। इसे तुरंत बंद करना है। वह कहता है कि उसका सारा काम गुड्डन त्रिवेदी और विनय तिवारी ही देख रहे थे। अब तक तो सब अच्छा चल रहा था कि मामला बिगड़ गया।

इसके लिए विकास ने भाजपा नेता को सपा विधायक का मोबाइल नंबर भी दिया। इस चैट और ऑडियो में विकास बार-बार गुड्डन त्रिवेदी से बात कराने को कह रहा है। इसके बाद पता चला है कि विकास दुबे वकील के वेश में सरेंडर की तैयारी कर रहा था। भाजपा नेता ने एसटीएफ को विकास के मैसेज और कॉल की जानकारी दी थी। वायरल ऑडियो में विकास वाराणसी और ग्वालियर में अपना ठिकाना बता रहा था।